रेखा | सफलता की कहानियाँ | निःशुल्क नारायण कौशल विकास केंद्र

रेखा अब अपना ख्याल

Start Chat

सफलता की कहानी: रेखा

 

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की रहने वाली रेखा जन्म से ही विकलांगता की शिकार थीं। दोनों पैरों की उंगलियों में टेढ़ापन और फड़कन के कारण चलना बहुत मुश्किल था। उसकी हालत देखकर माता-पिता भविष्य को लेकर बहुत चिंतित थे कि उसका क्या होगा? उसके माता-पिता ने उसका आसपास के अस्पतालों और आयुर्वेदिक तरीकों से बहुत इलाज करवाया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। जन्मजात विकलांगता का दर्द झेलते हुए रेखा छब्बीस साल की हो गईं, लेकिन कहीं से कोई इलाज संभव नहीं हो सका।

फिर एक दिन उन्हें कहीं से नारायण सेवा संस्थान के बारे में पता चला और फिर वह यहां आ गईं. यहां डॉक्टरों ने उनकी जांच की और 2021 में उनका ऑपरेशन किया। अब वह आराम से चल सकती हैं। कुछ सीखने और करने के जुनून के साथ रेखा संस्थान के निःशुल्क कंप्यूटर कोर्स में शामिल हो गईं। जिससे उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला है

अब वह आत्मनिर्भर बन गई हैं और मन लगाकर अच्छा काम करती हैं.अब वह अपना जीवन अच्छे से जी रही है और संस्थान परिवार की बहुत आभारी है।