info@narayanseva.org | 0294 6622222 | +917023509999

इस कुम्भ मेले में करे जरुरतमंदो की सहायता…!

test test

12 वर्षों के बाद शुभ घडी आई हैं …………. हरिद्वार की देवभूमि पर धर्म और आस्था का विश्व का सबसे बड़ा मेला……… महाकुम्भ मेला लगने जा रहा हैं। इस वेला में गंगा स्नान और सेवा का बड़ा महत्त्व हैं। आपका संस्थान मानवता के कल्याणार्थ सेवा का भव्य आयोजन हर कुम्भ पर्व में करता आ रहा हैं। इस हरिद्वार कुम्भ में नारायण सेवा संस्थान दिव्यांग एवं दुःखीयों का सेवा शिविर लगाने जा रहा हैं। यह शिविर 3 से 28 अप्रेल तक चलेगा। इस शिविर में दिव्यांग ऑपरेशन, केलीपर्स, एवं दुर्घटना में विकलांग हुए लोगों को कृत्रिम हाथ - पैर लगाने की सेवा निःशुल्क होगी। कृपया आपश्री इन् सेवाओं में अपना सहयोग दें। दिव्यांगों और दुःखी लोगो को कष्ट से मुक्ति दिलाएं।

शाही स्नान

प्रथम शाही स्नान

बृहस्पतिवार,
11 मार्च 2021
महाशिवरात्रि

द्वितीय शाही स्नान

सोमवार ,
12 अप्रैल 2021
सोमवती अमावस्या

तृतीय शाही स्नान

बुधवार ,
14 अप्रैल 2021
मेष संक्रांति

चतुर्थ शाही स्नान

मंगलवार ,
27 अप्रैल 2021
चैत्र पूर्णिमा

कुंभ मेले में कराये संत एवं श्रद्धालु भोजन

₹ 3100

सात दिवसीय संत भोजन


₹ 21000

सात दिवसीय संत भोजन,
5 कृत्रिम अंग
5 ऑपरेशन सहयोग राशि

₹ 51000

21 दिवसीय संत भोजन,
5 कृत्रिम अंग
5 ऑपरेशन सहयोग राशि

₹ 100000

संत एवं श्रद्धालु भोजन सेवा

कुम्भ मेले में पधारने वाले सभी श्रद्धालुओं एवं संतो की भोजन की व्यवस्था।

दिव्यांग ऑपरेशन

कुम्भ मेले में पधारने वाले जन्मजात दिव्यांगों की सुधारत्मक सर्जरी की जाएगी।
कृत्रिम अंग वितरण


दुर्घटना में अपने हाथ-पांव गँवा चुके दिव्यांग भाई - बहिनों को कैलिपर एवं कृत्रिम अंग दिए जायेंगे।

बनें स्वयंसेवक # एनएसएस मित्र

नारायण सेवा संस्थान समाज को सेवा से जोड़कर हर व्यक्ति में सेवा, प्रेम, धर्म, संस्कारो का संचार कर रहा हैं। इसी उद्देश्य से संस्थान स्वयं सेवकों को हरिद्वार कुम्भ में मानव सेवा के यज्ञ में अपने हाथों को पवित्र करने का व् आत्मिक आनंद लेने का अवसर देने जा रहा हैं। अगर आप किसी कॉलेज, स्कूल में पढ़ रहें है अथवा नौकरी कर रहें हैं ओर साथ ही 3 दिवस की निःशुल्क सेवा करने का भाव रखते हैं। कृपया नारायण सेवा संस्थान में वोलियंटरी सेवा कर सकते हैं। आप समाज की सेवा करके धन्य हो सकते हैं। स्वार्थ रहित होकर सेवा करना सबसे बड़ा कार्य हैं। बहुत ही पुण्यदायी और कल्याणकारी भी हैं।

संपर्क करें