Kindly make your humble Donations and become a part of this pious cause.
NARAYAN SEVA SANSTHAN

A non-profit service oriented voluntary registered organization committed for the all round development
& rehabilitation of the disabled-particular the polio afflicted & those born with disabilities.

Back

There is No age bar for Learning

सेवा महातीर्थ, बड़ी में संस्थान संस्थापक कैलाश मानव के सानिध्य में चल रहे ‘अपनो से अपनी बात’ व भजन-सत्संग कार्यक्रम का बुधवार को समापन हुआ। उपस्थित रोगी भाई-बहिनों से चर्चा करते हुए संस्थान अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा कि हमें सदैव सोच-समझकर बोलना चाहिए, क्योंकि मुख से निकले बोल व धनुष से निकला बाण कभी वापस नहीं आता। हमें ऐसे शब्दों का उपयोग नहीं करना चाहिए जिससे किसी का दिल आहत हो। अगर सामने वाले व्यक्ति ने गलती की है तो उसे उसकी भूल समझकर क्षमा कर दिजीए। हम दूनिया को बदलने निकले हैं तो पहले स्वयं को बदलें, स्वयं के स्वाभाव से निरसता और चिड़चिड़ेपन को अलविदा कहें।
उन्होंने आगे कहा कि आप कहीं भी हों, हर पल सजग रहें, आने वाले अवसरों को पहचानें व तुरंत पकड़ लें, अन्यथा बाद में आपको पछताना पड़ेगा।  सीखने की कोई उम्र नहीं होती, आप हर उस छोटी वस्तु से कुछ न कुछ सीख सकतें है जिसे आप किसी काम का नहीं मानते। इस दूनिया में सबका अपना महत्व है। चाहे वह सजीव हो या निर्जीव।
भजन गायक अशोक शर्मा ने अपनी मधुर वाणी में ‘‘ मोहन से दिल क्यों लगाया है, ये मैं जानू या वो जाने‘‘ जैसे कुष्णरस से ओतप्रोत भजनों से श्रोताओं और उपस्थित दान-दाताओं को मत्रमूग्ध कर दिया। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण संस्कार चैनल पर प्रातः 10 से दोपहर 1 बजे हुआ व संचालन ओम पाल सीलन ने किया।

TOP