Kindly make your humble Donations and become a part of this pious cause.
NARAYAN SEVA SANSTHAN

A non-profit service oriented voluntary registered organization committed for the all round development
& rehabilitation of the disabled-particular the polio afflicted & those born with disabilities.

Back

Felicitation of Service Devotees

सेवा-मनीषियों का सम्मान
-नई दिल्ली में होगा 27वां निःशुल्क सामूहिक दिव्यांग विवाह
उदयपुर, 19 नवम्बर। नारायण सेवा संस्थान के सेवा महातीर्थ बड़ी में शनिवार को देशभर से आए सेवा-मनीषियों व भामाशाहों का आत्मीय स्नेह मिलन समारोह सम्पन्न हुआ। संस्थान संस्थापक कैलाश मानव द्वारा ध्वजारोहण एवं दीप प्रज्जवलन के साथ आरम्भ हुए समारोह के विशिष्ट अतिथि चिमन भाई मेहता मुम्बई, नरेन्द्र कुमार नागपुर, श्रीमती शान्तादेवी बजाज बड़वानी, पंकजभाई पटेल राजकोट, इन्दिराबेन सुरविन्द भाई अहमदाबाद थे। समारोह में देश के विभिन्न प्रांतों से आए सहयोगियों ने संस्थान में निःशुल्क ऑपरेशन के लिए आए दिव्यांग बंधु-बहिनों से भेंट की और उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। इन्होंने संस्थान में दिव्यांग एवं कमजोर वर्ग की युवक-युवतियों के लिए चलाए जा रहे निःशुल्क रोजगारोन्मुख मोबाईल सुधार, सिलाई, कम्प्यूटर एवं हस्तशिल्प प्रशिक्षण केंन्द्रों, कृत्रिम अंग निर्माण, केलिपर वर्कशॅाप व मूक-बधि, प्रज्ञाचक्षु व विमंदित बच्चांे के नारायण एकेडमी का भी अवलोकन किया।
समारोह मेें सेवा-मनीषियों व सहयोगियों को संस्थान संस्थापक कैलाश मानव, अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल, संस्थान के वरिष्ठ साधक दल्लाराम पटेल, भगवती मेनारिया, रोहित तिवारी व दीपक मेनारिया ने सम्मानित किया। संस्थान अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने अपने स्वागत उद्बोधन में संस्थान के निःशुल्क सेवा प्रकल्पों की जानकारी देते हुए कहा कि संस्थान दानदाताओं का आभारी है जिनके सहयोग से 2 लाख से अधिक दिव्यांगो के ऑपरेशन तथा 1200 दिव्यांग व निर्धन युवक-युवतियों के विवाह सफलता पूर्वक सम्पन्न हुए हैं। उन्होंने आगामी 21-22 जनवरी 2017 को नई दिल्ली के पंजाबी बाग में होने वाले 27वें निःशुल्क सामूहिक दिव्यांग विवाह की जानकारी दी।
संस्थापक कैलाश मानव ने कहा कि जीवन उसी का सार्थक है जो पर पीड़ा को अपनी मान कर मदद के लिए हाथ बढ़ाए। उन्होंने संस्थान की 31 वर्षीय सेवा यात्रा पर भी प्रकाश डाला। संयोजन ओम पाल सीलन ने किया।

 

TOP